काउंटर टेररिस्ट अटैक का सारा श्रेय भारतीय वायुसेना को जाना चाहिए न कि किसी राजनीतिक दल को

भारतीय वायुसेना

जब भारत की पूरी आबादी सो रही थी, उस समय भारत के प्रधानमंत्री कुछ कैबिनेट के मंत्रियों के साथ बैठक कर रहे थे और आतंकवाद के खिलाफ हमले की निगरानी कर रहे थे। भारतीय वायु सेना भी पोक हमले का सीधा प्रसारण देख रही थी। देश के प्रधानमंत्री इस बिंदु का जायजा ले रहे थे। किस तरह से भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान में प्रवेश किया था और पाकिस्तानी वायु सेना के रडार को रोककर आतंकवाद के हमले का प्रतिकार किया था।

भारतीय वायुसेना

इसीलिए कहा जाता है कि नरेंद्र मोदी देश के अन्य नेताओं से अलग काम करते हैं। जहां तक ​​बहुत कम नेताओं की सोच है। यही कारण है कि दुनिया के प्रमुखों ने दुनिया की खुशी के लिए मोदी की नीतियों को स्वीकार किया है। कई दिनों से अमेरिकी राष्ट्रपति पाकिस्तान समेत दुनिया भर के देशों को सूचना दे रहे थे। भारत 14 फरवरी के हमले का बदला लेने के लिए पाकिस्तान पर कुछ बड़े हमले करेगा।

जिस तरह से भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के अंदर 40 किलोमीटर तक हमला किया, आतंकवाद का मुकाबला किया। इसका सारा श्रेय भारतीय वायु सेना को जाना चाहिए और देश की किसी भी राजनीतिक पार्टी को नहीं। नेता फिर युद्ध की निगरानी कर रहे हैं। लेकिन अदम्य साहस का परिचय सेना ही देती है। यही कारण है कि पूरी भारतीय सेना को इस सर्जिकल स्ट्राइक का पूरा श्रेय जाना चाहिए

Previous
Next Post »